Happiness / ख़ुशी

What is happiness? It is human nature that we want happiness but still we run after money (most of us do that, we do not realise the difference between earning for fulfilling the needs of life and enjoying it and just keep earning like a machine), certain pleasures like eating or getting married to someone or buying our favourite car or getting a job at a particular place or getting a flat at our dream city or just keep trying to fulfill many of such wishes of ours but we forget that our lives are left behind somewhere, while we were busy running after these worthless things. Because these things are just pleasure for that particular moment and not qualify to be happiness.

ख़ुशी क्या है? हम हमेशा खुश रहना चाहते है, परन्तु रह नहीं पते हैं. आखिर ऐसा क्यू होता है हमारे साथ? कभी सोचा आपने? यह मनुष्य का स्वभाव है कि वो ख़ुशी के लिए ज्यादातर तो पैसे के पीछे भागता है (हाँ यह बात सही है कि हमारी बुनियादी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए भी आज के दौर में पैसे की बहुत सख्त ज़रूरत हो गयी है, परन्तु उसके पीछे अंधी दौड़ में भागने और जीवन में आवश्यक संसाधन जुटाने हेतु कमाकर सुकून से जीवन बिताने में बहुत अंतर है), या फिर सोचते हैं की हम बहुत महंगे कपड़े पहनकर या मनभावन खाना खाकर या अपनी पसंद की गाड़ी खरीदकर या पसंद के साथी से शादी करके या पसंद की नौकरी पाकर खुश हो जायेंगे और ज़िन्दगी भर इन दुनियाभर की ख्वाहिशो को पूरा करने में लगे रहते हैं. और इस अंधी दौड़ में यह भी भूल जाते हैं की हमारी ज़िन्दगी हमसे पीछे छुट रही है. ये सब मात्र क्षणिक सुख हैं जो कि ख़ुशी को परिभाषित नहीं करते हैं.

When we start thinking that thinking positive will make us happy, but what do you find that we cannot hold it for longer rather we immediately get surrounded by things like it may put us into more sorrow or many other negative things. It is easy for our mind to think negative than positive. When we have heard negative and positive both things about someone, I think you have also noticed that when we meet that person next time, generally we start thinking about the negative things first and start judging that person or the situation in front of us. What is the way out to get rid of this negative cycle? how can we stay positive? Have you ever taken a pause for a moment with a long breath and given yourself a chance to think over this minute details, which are actually very important to understand the real meaning of life or to stay happy and spread happiness. If no, then it is high time, please do it now to stay away from the crowd and think about the reality of it and the oneness with the nature. Life is too short to ruin it in the negative thoughts or running after worthless things. Rather enjoy it and make it worth it. :). Yes, Yes!! you are right. The way to stay happy is the feeling of contentment/ gratitude, which comes from the state of mind, when we love what we do and what we have. This is the reason that a child or a villager is happy with his/her limited resources but a grown up rich person (though not always) is not happy with a lot of money or even after having whatever he can think of. The happiest people on the earth do not have the best of everything rather they make the best of what they have, they know how to live with the nature and they feel content and their hearts are full of love and gratitude. Happiness, I feel, is not a destination rather it is a way to live our lives, without burden of past or future or anything else. I remember my friends or fellow students or professors telling me that they feel positive or happy whenever they see me because i used to wear a smile, all the times, on my face. And actually believe me, those were my university days and I used to feel really happy with my life those days, i was always ready to help others, ready to learn and unlearn things, I used to feel like the entire nature is communicating with me with a smile, including trees/ flies/ birds/ winds/ stones or what ever was visible to me or I could feel. That time a village girl went to explore the new world and the hope and satisfaction in my parent’s eyes used to give me energy to stay positive. Those were times when I used to find positive things even in the most negative people around, but now when I look at myself I find that I am always surrounded by negative people and even I have started thinking like them at times, so I feel more angry, more anxiety, more stress, more perplexed now. Because now I am surrounded with the people who prefer money over the human being you are, and being a social creature, it is really hard to not get affected by environment or people around you, but believe me it is not impossible, we can still cut ourselves off from those negative minds and stay happy. We will just have to listen to our inner voice and focus on our lives. You know! the most important thing is to talk to yourself, because you are the best guide to your life and you are the only life partner of yourself. It is okay to have failures or sad experiences or hard times, because they will all increase your test of happiness but beware of letting others effect your life/ priorities/ thought process. Once you do this you will live happily.

What happens is that our society trains us that ways that we by default start thinking about that once negative thing going on in our life, even though there are hundred other things are going right. Right? Think over it, you will agree too. Yes! So let’s see how to get rid of this. Even if you get your dream job, you will not be happy because your mind is trained to see what you do not have rather than thinking that what you have is dream for many more. We need to see that we have the basic things to lead our life smoothly, now why to think that why something is wrong with us/ why are we now not getting promotion/ why this negative things happen / why someone has said us something? No!! We need to think that okay if something is wrong, there are hundred other things right in our life that is why we are able to get food every day, cloths to wear, home to stay in, Parents to bless and guide and love us, brothers and sisters to support us, kids to trust us, friends to laugh with us, air to breath, sun to give us life, water to end our thrust and most importantly we are blessed with a mind to think rationally then why are we forcing it to take the opposite turn? Think over it and believe it it is my experience that my earlier life was really easy and now after understanding this world and trying to adopt its clever techniques, it is getting tougher and sadder. I am trying to go back to the earlier state of mind, we need to be like a child actually, who can forget bad things so easily. Think that which whom we are happy with a kid or with a frustrated grown up person, with a kid of-course, but that doesn’t mean that we forget to grow up, we definitely need to grow up and go ahead in our lives but with a satisfactory state of mind. No! that does not mean that once we are satisfied we will not aspire to grow, we need to unlearn this misconception as well. And many such stereotypical things we need to fight with and delete them from the software of our mind and rewrite the memory with updated learning. There are so many people who see everyone with a doubt, but we need to change our state of mind, we need to see the positive side, because we are born innocent. This society is not going to be perfect to make you see the change to perceive the good, rather it is going to be the same but there are far more better things to experience so why not live that life. Okay! now comes the question that why to do that? Because when we keep on doing the same thing and we know that it is not making us happy, then what is the point of repeating that? So change the way you think, as mind is the way more powerful than we can ever think of it. Again, the question is- how to do this?

There are many ways to do that as per your grasping power, but there are two ways that I have found most effective are listening for some people and writing for the other. When we hear something in our own voice repeatedly or when we write something again and again then we tend to believe that more. We need not think what if this happens or that or that ways. Just tell yourself and write that what all things you have which other people dream for? Then, we need to observe as a third person to our own life because that ways we can learn about ourselves more and understand the situation in a better way. That will be the time when we can think practically and will not get a chance to be sad. Eg. even if you get sad or angry tell yourself that you are getting angry or sad, think why, once you understand the reality you will no more be sad or angry. Because change is the only permanent thing in the universe, therefore, people/ circumstances/ things are going to change. We need to be happy without thinking that something is going to be wrong. we need to perceive ourselves as a third person to be indifferent from the aggressive feelings so that we can understand the cause of the problem and once we stay positive and do not react, the universe will fill us with the positive energy. Or Think when you laughed from the bottom of your heart and think that why or how that happened, you will find your own solution. Think deeply over it. You will definitely going to overcome your problems and find your own way to live rather than running after people. Think of we all as part of this universe and not ‘me’. Try to connect everything with the nature and perceive it all as a third person, everything you will find, is going on at its own pace, that absolutely does not mean that you need to be inactive or sit silently. You need to work, earn, do your other duties as a human being but stay connected with the nature and what ever emotional or psychological thing come in your mind just try to observe things as an outsider and your life will get all the solution for everything and all the happiness under the sky, that you can share with the entire universe. Do not just think that you want to be happy, but you will automatically feel it, trust me. And this will be this time you will find yourself to be the happiest person on earth.

जब हम ये सब सोचना शुरू करते हैं और सकारात्मक सोचना शुरू करते हैं तो थोड़ी देर बाद नकारात्मक विचार आने शुरू हो जाते हैं. क्योंकि हम जिस माहौल में रहते हैं वहा हमारा दिमाग नकारात्मक सोचने के लिए तैयार हो जाता है. एक उदहारण लेते हैं अगर हमने कभी किसी के बारे में सही और गलत दोनों बाटे सुनी हो और उसके बाद उस आदमी से मिलते हैं तो अच्छी वाली बाते भूल जाते हैं और बुराई याद रखते हैं, कभी कभी फालतू की बातो से डरने लगते हैं की ज्यादा खुश हुए तो नज़र लग जाएगी या दुःख भी आना ही है पक्का है, आप यकीन मानो अगर आपने सोच लिया है कि ऐसा होना है तो वो ज़रूर होगा क्योंकि हमारा दिमाग बहुत ताकतवर होता है. अब प्रश्न आता है कि कैसे इस नकारात्मक चक्र से निकले और सकारात्मक सोच को बनाये रखे?
यहाँ पैर थोड़ा रुको, आँखे बंद करो कुछ मत सोचो, लम्बी सांस लो, दुनिया की भीड़ को चले जाने दो, अब सोचो ज़िन्दगी की वास्तविकता क्या है? यहाँ न ‘मैं’ है ना ‘तुम’ है, ये सारा जहां एक ही है, हम सब प्रकृति का हिस्सा हैं. दोस्तों, ज़िन्दगी बहुत ही छोटी है फालतू की चीजों के पीछे भागने के लिए और दुखी होकर व्यतीत करने के लिए. इसलिए इसे दुनिया के पीछे भागकर बिताने के बजाय थोड़ा ठहरो, सोचो, देखो, महसूस करो और जियो.
हाँ…हाँ यही, सही सोचा आपने, अब जो भी आप करने जा रहे हो उसे भी महसूस करो, दिल से करो, जब आप पूरे तन और मन से कोई काम करते हो तो आप उसे जीने लगते हो और वही वो पल होता है जब आप स्वाभाविक रूप से ख़ुशी को महसूस करना शुरू करते हो.
तभी तो हम पाते हैं कि बच्चे हमसे ज्यादा खुश होते हैं, खुलकर हँसते हैं, जो करते हैं पूरे मन से करते हैं, उसमे ही खो जाते हैं, उनके लिए मेरा तेरा कुछ नहीं होता सब अपना होता है हम सबका होता है, हर इंसान वास्तव में खुश ही पैदा होता है, बच्चा कभी भी किसी विशेष भावना के साथ ज्यादा देर नहीं चलता है, ये तो हम अपने साथ भूत का और भविष्य का बोझा धोते रहते हैं. वर्तमान में जीकर देखो दोस्तों, बिना किसी झूठ या नकारात्मक भाव के बोझे के, आपकी दुनिया ही बदल जाएगी.
तभी तो हमे गावो में शहरो के अमीरो से ज्यादा लोग मुस्कुराते मिल जायेंगे ककी पैसा या संसाधनों की भरमार हमको ख़ुशी नहीं देती है बल्कि हमारे अंदर संतोष की भावना हमको ख़ुशी का आनंद देती है.
मैं अपना ही एक किस्सा सुनती हूँ, मेरे विश्वविद्यालय में दाखिले के बाद मेरे साथी सहपाठी और प्राध्यापक वृन्द कहा करते थे कि ‘रचना तुमको देखकर या तुम्हारे साथ बैठकर हमें बहुत अच्छा महसूस होता है, हम अनायास ही मुस्कुराने लगते हैं, तुम्हारी मुस्कराहट इतनी मन को छूने वाली होती है, वास्तव में यकीं मानो दोस्तों अगर हम दिल से हँसते हैं तो हमारी सबकी ख़ुशी दुसरो को भी खुश ही करेगी, बस शर्त ये है कि उसमे डर या शक या और किसी भावना की मिलावट नहीं होनी चाहिए. उस वक़्त मैं वाक़ई बहुत खुश थी, घर में माँ-बाबा की आँखों में मेरे लिए आशा और विश्वास देखकर और बाहर एक गांव की लड़की को इतना कुछ जो सीखने के लिए था ये जानकर खुश थी. तब लगता था कि पूरी कायनात मेरे साथ है और खुश है, प्रकृति का हर हिस्सा पेड़, पंछी, पत्थर, पवन, पात, हर पल मुझसे बाते कर रहे हैं, मेरे साथ चल रहे हैं.
परन्तु अब सब कही रूठ से गए हैं क्योंकि दुनियाभर की चिंता, दुनिया से पीछे छूटने का डर, ससुराल के लोगो को खुश करने की दौड, पति के साथ सामंजस्य का रास्ता, नौकरी की ताश, नए देश के लोगो से तालमेल जैसी हज़ारो बातो में असली रचना कही खो सी गयी है. ऐसा ही आपके साथ भी हुआ होगा दोस्तों, क्योंकि बचपन में तो हम सभी खुश रहा करते थे. परन्तु अब सोचो की क्या मेरी ये साड़ी चिंताए जायज है? नहीं !! बिलकुल भी जायज नहीं हैं, बल्कि अगर मैं पहले के जैसे खुद बनकर और प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर जियूँगी तो मैं भी खुश रहूंगी और मेरे आस पास के लोग भी, परन्तु हमारा दिमाग ऐसे तैयार होता है कि उसे हारना आसान लगने लगता है और जीत के नाम पर वो ‘ईगो’ को गले लगा लेता है जबकि वास्तव में ईगो उस मनुष्य में होती है जो हर वक़्त हार से डर कर मर मर के जी रहा होता है.
अब मुझे महसूस होता है कि एक वो वक़्त था जब मैं हर बुरे आदमी में अच्छाई ढूंढ लेती थी और अब दुनिया को देखकर हर किसी पर शक करना सीख लिया है, हर किसी से दर लगने लगा है, कभी कोई गलत करता है तो बहुत गुस्सा आता है, आगे क्या होने वाला है का डर सताने लगा है, क्योंकि नकारात्मक लोगो के साथ से उनके प्रभाव में आ गयी हूँ.
लेकिन अब समझ आया है की दोस्तों, समाज ऐसा ही रहने वाला है, और यहाँ यकीन मनो की बुरे से ज्यादा भले लोग हैं तभी ये दुनिया चल रही है.
अब मेरे को आगे बढ़ने का रास्ता मिल गया है तो आपके साथ भी बाँटना चाहती हु ताकि मई और मेरे सम्मानित पाठक मिलकर दुनिया की अच्छाई को थोड़ा और बढ़ा सके.
क्यों? कर सकते हैं न हम ऐसा?
बिलकुल सही, हम कर सकते हैं और करेंगे भी.
तो सुनो,
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की इस दुनिया में आपके एकमात्र हमसफ़र केवल आप हैं. इसलिए अपने दिल की बात सुनने का भी वक़्त निकालो दोस्तों, मुझे लिखना अच्छा लगता है मैंने शुरू कर दिया, आपको जो अच्छा लगता है आओ भी फ़ौरन शुरू कर दो, सारा दिन वही करने की ज़रूरत नहीं है लेकिन थोड़े टाइम तो हम कर ही सकते हैं.
हाँ, कमाई भी ज़रूरी है, और सामाजिक प्राणी होने के नाते हमारे बहुत से कर्त्तव्य हैं, परन्तु हमारा सबसे बड़ा कर्त्तव्य खुद के लिए है क्योंकि हम खुश होंगे तो हम हर जगह खुशियां ही बाँटेंगे और ख़ुशी बांटना मतलब किसी को ज़िन्दगी जीने का उद्देश्य देना, इससे बड़ा परोपकार कभी नहीं हो सकता है, इससे हमारा मन शांत होगा और हमरे पास हर दुविधा का समाधान होगा.

होता क्या है कि जब हमारे साथ थोड़ा सा गलत होता है तो हम ज्यादा सही को भूलकर उस थोड़े गलत के बारे में सोचकर परेशां होते रहते हैं. मेरे साथ ही ऐसे क्यू होता है? भगवान मेरे से रूठ गए हैं! अल्लाह को कहर ढहने को हमेशा मई ही मिलता हु! अब क्या होने वाला है? ऐसा हुआ तो क्या होगा? वैसा हुआ तो क्या होगा? अरे भई रुको! कैसा हुआ तो कुछ नहीं होगा. आपको अपना जीवन चलाने के लिए काम करना है शांति से वो करो और अपने आस पास के लोगो की अच्छायी देखो और अपने काम से प्यार करो खुश रहो और खुशिया बांटो.
अब प्रश्न है कि ऐसा क्यू करना है?
क्योंकि आपको खुश रहना है, इसलिए फालतू के भरम का बोझ तो हटाना होगा न!
हम्म्म!! सही बात है.
तो अब ?
अब क्या, अब चलो रहो खुश!
पर कैसे?
तो एक काम करो, कि एक कागज़ – क़लम उठाओ और लिखो की आपके पास वो क्या है जो बहुत से लोगो का सपना है?
आपका स्वस्थ शरीर है, जीवन का रास्ता दिखाने को माँ-बाबा हैं, साथ देने को भाई – बहिन हैं, प्यारे प्यारे बच्चे हैं, साथ हंसने को दोस्त हैं, रोटी कपड़ा मकान है, पढ़ाई भी की हुयी है, नौकरी भी है, और सबसे महत्वपूर्ण है की आपके पास सोचने समझने के लिए दिमाग है, जो की मेरे विचार से दुनिया की सबसे ताक़तवर चीज है.
है न, सब कुछ तो है!
फिर क्यू दुखी हो आप?
अब एक काम और करो थोड़ी लम्बी सांस लो, बैठो और देखो,
कैसे?
खुद को तीसरे बन्दे के जैसे देखो, मानो की आप कोई और हैं और फिर देखो आपको जीवन की वास्तविकता समझ में आएगी, हर मुसीबत का हल भी नज़र आएगा और जीवन का दर्शन भी मक़सद भी साफ़ नज़र आएगा.
आपको समझ में आएगा की आपको तो भीड़ के पीछे भागने की ज़रूरत ही नहीं है क्यूंकि आप अपनी वर्तमान ज़िंदगी से खुश हैं, आप परेशां थे तो केवल भूत के बोझ और भविष्य के दर से लेकिन देखो अब तो आप खुद को साफ़ साफ़ देख पा रहे हो और वर्तमान में जी प् रहे हो, यही तो है असली ख़ुशी का राज. 🙂
ये आप तब भी करे जब आपको गुस्सा आ रहा हो या आप दुखी हो, सोचो कि मई दुखी हो रहा हु या मेरे को गुस्सा आ रहा है लेकिन क्यूंकि आप तो खुद को बहार से देख रहे हैं तो आपको वो छू नहीं पायेगा और आप समझ पाएंगे की इसका वास्तविक कारन क्या है या दूसरा आदमी किस स्थिति से गुजर रहा है और जब आप परिस्थिति को सम्हालकर प्रतिक्रिया देने से बचेंगे तो ब्रह्माण्ड भी आपको सकारात्मक ऊर्जा से भर देगा.
या फिर एक और तरीका अपनाओ, सोचो कि अंतिम बार आप खुलकर कब हसे थे, उस वक़्त आपके दिल दिमाग की स्थिति क्या थी आपको अपने तरीके से खुश रहने का रास्ता मिल जायेगा.
‘मैं’ की जगह ‘हम’ सोचना शुरू करू, विश्वास करो दोस्तों, जब आप खुद को प्रकृति से जोड़कर देखने लग जाओगे और जीवन की हर परिस्थिति के वास्तविक कारन तक पहुँच कर सोचने लग जाओगे और जीवन की कुछ सच्चाईया जैसे बदलाव ही एकमात्र न बदलने वाली चीज है यहाँ, या फिर मृत्यु निश्चित है या फिर समाज आपको बनता है लेकिन आप भी तो समाज को बनाते हो इसलिए आपको उससे प्रभावित होने के बजाय खुद खुश रहकर समाज में खुशिया फैलानी हैं. तब आप खुश भी रहेंगे और बाँटेंगे भी.

यकीन मानो दोस्तों अगर खुद के साथ ये जंग आपने जीत ली तो दुनिया की हर ख़ुशी आपके कदमो में होगी और कोई भी भावना आपको परेशां नहीं कर पायेगी. Copyright © Rachana Dhaka

14 Comments

  1. A beautiful post, Rachana. I could not agree w/ you more. There are any number of Christian Scriptures that bear on the topic of happiness and contentment. This, for instance: “For we brought nothing into the world, and we can take nothing out of it. But if we have food and clothing, we will be content with that. Those who want to get rich fall into temptation and a trap and into many foolish and harmful desires that plunge people into ruin and destruction” (1 Tim. 6: 7-9 NIV). Or this: “Do not be anxious about anything, but in every situation…with thanksgiving, present your requests to God. And the peace of God…will guard your hearts and your minds in Christ Jesus. Finally, brothers and sisters, whatever is true, whatever is noble, whatever is right, whatever is pure, whatever is lovely, whatever is admirable — if anything is excellent or praiseworthy — think about such things” (Phil. 4: 6-8).

    Liked by 1 person

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s