आदमी है कि बैताल है?

आखिर क्यों हर गलती
आदमी से भटक जाती है?
और क्यों औरत पर आकर
जैसे ठहर जाती है?
क्या नाम दूँ ऐसी परंपरा को
विडम्बना या ढकोसलेबाजी?
हालाँकि, चुटकुलों में तो
आदमी बेचारा है लेकिन
जीवन में वो चाहता है कि
औरत ही बेचारी बनी रहे.
ये कैसी छद्म चाल है?
आदमी है कि बैताल है? Copyright © Rachana Dhaka

Published by Rachana Dhaka

I am a law student, a resilient defender of Human Rights, a nomad who loves to know about different cultures and connect them for the better future of mankind and loves to talk to people through poetry or with some write ups. And best of all i love to motivate people and spread happiness around :)

5 thoughts on “आदमी है कि बैताल है?

      1. यह इमोजी तो मैंने पहली बार प्रयोग में लिया। अगर बुरा लगा आपको तो माफ़ी चाहूंगा🙏 पर मुझे आपकी यह कविता बेहद पसंद आयी।

        Liked by 1 person

      2. mafi ki koi baat hi ni hai… pyar mata pita se bhai bahin se dosto se sabse hota hai … samaj hamara usko ek hi disha me le jata h jo galat h… priti to failti hi rahni chahiye

        Like

      3. इतने शब्दों से मैं गुमराह हो जाता हूँ इसलिये मैं कभी सोशल मीडिया पर नहीं रहा। मुझे अपनी कविता के लिए यही प्लेटफार्म सही लगा इसलिए आ गया। 🙏

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: