अब वतन आज़ाद है The country is free now

साहिर लुधियानवी

अब कोई गुलशन न उजड़े अब वतन आज़ाद है

रूह गंगा की हिमाला का बदन आज़ाद है

खेतियाँ सोना उगाएँ वादियाँ मोती लुटाएँ

आज गौतम की ज़मीं तुलसी का बन आज़ाद है

मंदिरों में संख बाजे मस्जिदों में हो अज़ाँ

शैख़ का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है

लूट कैसी भी हो अब इस देश में रहने न पाए

आज सब के वास्ते धरती का धन आज़ाद है

Sahir says about freedom

Now no garden to be devastated, now the country is free

The soul of the Ganges and the body of Himalaya is free

Today fields can grow gold and valleys can spread pearls

As the land of Gauam and the woods of Tulsi is free

Temples can play conch shell and Mosques can call prayers

The religion of Shekh and Practices of Brahmin are free

Whatsoever kind of loot, it cannot stay in this country any longer

Today the wealth of land is free for everyone.

Translated by Rachana Dhaka

8 Comments

  1. बहुत सही सोच के साथ लिखी गई रचना।
    मगर अफसोस
    कल भी टुकड़ों में थे आज भी रोग वही है, आजाद है वतन मगर सोच वही है।

    Liked by 2 people

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s