आज मैंने फिर खुद से मिलाया है खुदको Today, When I made myself meet myself

Translation follows

आज उसने मुझको जो बुलाया, फिर से
मंजर फिर वही याद आया मुझे, झट से
जब जब भी नाम मेरा लेता है वो आजकल
सिहर सा जाता है दिलो-दिमाग मेरा उस पल
हालाँकि चाहती तो मैं भी हूँ सदा से
कि वो भी बुलाये कभी मुझे प्यार से
तरस ही गयी हैं निगाहें मेरी उसकी बातों को
कभी तो तरसेगा वो भी मेरे साथ को
कोशिशें भी हज़ार की कि बैठे मेरे पास वो
मुस्कुराकर बतलाये मुझे मन के राज वो
और बन जाएँ हम दो शरीर एक जान
बस ऐसे घुल जाये, एक दूजे को जाएँ जान
मगर आज जब उसने आवाज़ दी तो
लगा ही नहीं कि उसने बुलाया भी हो
हर पल उसके साथ का इंतज़ार रहता था जिसको
आज उसी ने ठुकरा दिया उसके निमंत्रण को
आखिर ऐसा क्या हुआ था आज उसको
कई महीनों की बेरुखी का असर था शायद उस पर
मायुसी इस क़दर हावी थी आज उस पर
क्योंकि हर बार वो जाती थी उस संग
और लौट कर आती थी तो सिर्फ अश्कों के संग
अब शायद भान हो गया है मुझे, ऐसा लगा
क्योंकि आजकल जब आईना देखती हूँ तो
पूछता है हर बार वो मुझको
कि कब तक सहेगी तू ये ज़िल्लत
कब तक लिखेगी अपनी बेइज्जती की दास्ताँ
कब तक इन अंधेरों में खुद को कोसती रहेगी
आखिर कब तक खुद को बेड़ियों में कैद रखेगी
और आज शायद वो दिन आ गया था जब
कोई असर नहीं किसी के जज़्बातों का मुझ पर
कोई असर नहीं किसी की बातों का मुझ पर
अच्छा लगा आज उसको ना कहकर
आज मैं फिर से मैं बन गयी थी
फिर से खुली हवा में झूम रही थी
आज मैंने खुद को अंधेरो से आज़ाद किया
आज मैंने फिर से उजालों से दोस्ती करली
आज लगा कि बस, जो पर कटे थे
वो फिर से उग आये हों जैसे
आज रचना की रचना फिर से हुयी हो जैसे
आज मैंने खुद को किसी की फ़िक्र से
किसी की बेवज़ह नाराज़गी से
किसी के अत्याचारों से
किसी की बेहूदगी से मुक्त कर लिया था
वो जो मुझे बाँधने के मनसूबे पाले था
आज अपना सा मुँह लेकर लौट रहा था
उसके आँसु आने से पहले
जिसकी आंखों से सैलाब आ जाता था
जिसकी ख़ुशी के लिए उसने
को हर पल मरने दिया था
आज उसने फिर से जीना सीख लिया था
आज मैंने खुद को नयी ज़िन्दगी दी थी
हर बार उसके साथ जाने
उसको मौन या झगड़े की ज़िल्लत झेलने
और फिर नाउम्मीदी के साथ लौट आने
के बाद ये सोचे रहने कि
किस्मत ने कैसे मुर्दा अकड़ू के साथ बंधा मुझे
क्योंकि अकड़ तो मुर्दों में ही होती है न
ज़िंदादिल तो रिश्तों के लिए झुक भी जाया करते हैं
ये कैसा आदमी है जो बीवी के खाने के लिए भी
पैसे का हिसाब देखा करता है
जिसके ख़ुशी ग़म सब दौलत के नाम होता है
इन सब से मुक्ति मिली थी मुझको
आज उसने फिर से आवाज़ दी थी मुझको
और मैंने अपना रास्ता चुनकर
आज फिर खुद से मिलाया है खुदको

Copyright © Rachana Dhaka

Here the author is trying to put a situation in the form of poetry saying that–

Today when he called me up again

I got reminded of the earlier facts quickly again

Whenever he takes my name these days

My heart and mind get shaken for the moment

Though I always want him to call me

I am waiting for him to talk to me with love

Thinking that some day he will also wait for me to talk

I have tried hard to make him sit and talk with me

And that he tells me what he thinks or feels

And that we become two bodies and one soul

But when he called me up today

I did not feel anything from within

She who wanted to be with him all the times

Has declined his offer to go with him

At last, what happened to her today, I wonder

May be it was the impact of his neglect for months

She was wearing the cover of sadness since long

Because every time she has gone out with him

She has come back with full of tears

Now I think I have got to know, I feel

Because when I look at the mirror these days

Every time it  asks me that

Till how long you are going to bear this disgrace

How long you want to let the story of disrespect go

How long you are going to curse yourself in the dark

Till when you are going to keep yourself tied with fetters

And possibly today was the day when

I was not affected with any one’s feelings

When I was irrespective of anyone’s talks

I felt so relaxed after saying him a NO

Today, I had become myself once again

I was dancing in the open air once again

Today I have freed myself from the darks

Today I have been friend with the lights again

Today I felt as if, the feathers which cut long back

Have grown up once again

As if Rachana has been created once again today

Today I have relieved myself from someone’s tensions

From somebody’s ager without reason

From somebody’s atrocities or violence

I have exempted myself from somebody’s torture

He who wanted to look me down or cage me up

Was going back today with his wicked ideas

She who used to cry before he even felt sad

She who has died everyday for his happiness

Has learnt to live today, once again

I have given myself a new life today

Rather than going with him like everytime

And facing disgrace due to his ignorance

And coming back with all the disappointments

And then keep thinking that

Why her fate has kept her with this deadly egoist man

Because the dead bodies only are stone hard

Those who are lively always melt for their relations

What kind of a person he is who

Looks at money before even feeding his wife

Who is happy or sad only looking at his wealth

Today I was discharged from all that

Today he called me up once again

And I by choosing my own way

Have met myself with myself once again

Copyright © Rachana Dhaka

12 Comments

  1. Hello there, You have done an incredible job. I will
    certainly digg it and personally recommend to my friends.
    I am confident they’ll be benefited from this website.

    Liked by 1 person

      1. रचना जी, समय मिले तो मेरा ब्लॉग भी आवश्य चेक कीजियेगा। अपने सह-कवियों से सुझाव एवम टिप्पणियां पाकर अपने लेखन में सुधार का प्रयास कर रहा हूँ।🙏

        Liked by 1 person

  2. किस्मत ने कैसे मुर्दा अकड़ू के साथ बंधा मुझे
    क्योंकि अकड़ तो मुर्दों में ही होती है न
    ज़िंदादिल तो रिश्तों के लिए झुक भी जाया करते हैं
    ये कैसा आदमी है जो बीवी के खाने के लिए भी
    पैसे का हिसाब देखा करता है
    जिसके ख़ुशी ग़म सब दौलत के नाम होता है
    Dil dahla denewali panktiyan………jise insanon ka dard nahi dikhta …..jinhen apne rishton ki parwaah nahi…….jo sirf daulat sohrat, jaati aur dharm ko insano se upar mante hain aur usi ke liye jite hain we kabhi insaan nahi ho sakte……

    Liked by 1 person

    1. Sahi kaha apne Sir… lekin ese log yaha jee bhi rahe hain or dusro ko barbaad bhi kar rahe hain… qki hamare samaj me aaj bhi sadi k baad aurat ka pati k khilaf awaz uthana gunah h or divorce to jab tak ho sake varjit hi h 😦 or tab ese logo se mera to ek hi sawal hota h bhai sadi hi q karni thi tere ko ??

      Like

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s