मौत से ठन गयी It was death I faced: A.B. Vajpayee अटल बिहारी वाजपेयी

I was not eager to fight back. Neither was ready to meet at any turn. But there it stopped, stopping my path. It seemed it was larger than life. What is the life of death? not even two moments Life is a continuum, but not these days I have lived with the grandest vibes, whyContinue reading “मौत से ठन गयी It was death I faced: A.B. Vajpayee अटल बिहारी वाजपेयी”

I am a Dream इक अरमान हूँ मैं

One of India’s great poets Late Mr Kaifi Azmi Sahib Says– I am not a Country which can be burnt I am not a wall that can be broken I am not a border which can be removed This old map of the world Which you have spread on the table Contains nothing more thanContinue reading “I am a Dream इक अरमान हूँ मैं”

नहीं देखा Not seen!!

By Bashir Badra Englisg translation by Rachana Follows आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा It always remained in the eyes, never landed up in the heart The Passenger of ship has never seen the Sea बे-वक़्त अगर जाऊँगा सब चौंक पड़ेंगे इक उम्र हुई दिनContinue reading “नहीं देखा Not seen!!”

God : ख़ुदा !! Bashir Badra: बशीर बद्र

By Bashir Badra English translation by Rachana follows ख़ुदा हम को ऐसी ख़ुदाई न दे कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे May God never give us such divinity, that we cannot see anything other than over-selves ख़ता-वार समझेगी दुनिया तुझे अब इतनी ज़ियादा सफ़ाई न दे The world will see you as the culprit,Continue reading “God : ख़ुदा !! Bashir Badra: बशीर बद्र”

खामोशी Silence

डॉ गौहर राजा, एक भारतीय व्यज्ञानिक हैं जो सरकार पर सवाल उठाने वाली एक कविता के विरोध के बाद कहते हैं– लो मैंने कलम को धो डाला लो मेरी ज़बाँ पर ताला है लो मैंने आँखें बंद कर लीं लो परचम सारे बांध लिए नारों को गले में घोंट दिया एहसास के ताने बाने कोContinue reading “खामोशी Silence”

ऐ भाई! जरा देख के चलो O Brother! Please look and walk गोपालदास “नीरज”

This is about life English translation is in the next posts ऐ भाई! जरा देख के चलो, आगे ही नहीं पीछे भी दायें ही नहीं बायें भी, ऊपर ही नहीं नीचे भीऐ भाई! तू जहाँ आया है वो तेरा- घर नहीं, गाँव नहींगली नहीं, कूचा नहीं, रस्ता नहीं, बस्ती नहीं दुनिया है, और प्यारे, दुनिया यहContinue reading “ऐ भाई! जरा देख के चलो O Brother! Please look and walk गोपालदास “नीरज””

धर्म है This is religion गोपालदास “नीरज”

He was quite relevant and his words are still relevant. English translation in next posts. जिन मुश्किलों में मुस्कुराना हो मना,उन मुश्किलों में मुस्कुराना धर्म है। जिस वक़्त जीना गैर मुमकिन सा लगे,उस वक़्त जीना फर्ज है इंसान का,लाजिम लहर के साथ है तब खेलना,जब हो समुन्द्र पे नशा तूफ़ान काजिस वायु का दीपक बुझनाContinue reading “धर्म है This is religion गोपालदास “नीरज””

मैं तूफ़ानों मे चलने का आदी हूं I am habitual of walking into storms गोपालदास “नीरज”

English translation in next Posts मैं तूफ़ानों मे चलने का आदी हूं..तुम मत मेरी मंजिल आसान करो.. हैं फ़ूल रोकते, काटें मुझे चलाते..मरुस्थल, पहाड चलने की चाह बढाते..सच कहता हूं जब मुश्किलें ना होती हैं..मेरे पग तब चलने मे भी शर्माते..मेरे संग चलने लगें हवायें जिससे..तुम पथ के कण-कण को तूफ़ान करो.. मैं तूफ़ानों मेContinue reading “मैं तूफ़ानों मे चलने का आदी हूं I am habitual of walking into storms गोपालदास “नीरज””

ना कोई अब्दुल कलाम होगा No Kalam will be there again

हमीं को क़ातिल कहेगी दुनिया हमारा ही क़त्ल-ए-आम होगा हमीं कुएँ खोदते फिरेंगे हमीं पे पानी हराम होगा अगर यही ज़ेहनियत रही तो मुझे ये डर है कि इस सदी में ना कोई अब्दुल हमीद होगा ना कोई अब्दुल कलाम होगा ~मैराज फ़ैज़ाबादी The world will call us the murderer We will only be killedContinue reading “ना कोई अब्दुल कलाम होगा No Kalam will be there again”

कारवाँ गुज़र गया: Coffle has passed गोपालदास नीरज Gopaldas Neeraj

English translation is in the next post मार्च २०१२. जब हमारे विश्वविद्यालय में महाकवि नीरज का आगमन हुआ और उनके मुख कमल से ये प्रसिद्ध कविता सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. आज फिर से कानों में उनकी आवाज़ सुनाई दे रही है उनकी लेखनी पढ़कर. स्वप्न झड़े फूल से मीत चुभे शूल से लुट गएContinue reading “कारवाँ गुज़र गया: Coffle has passed गोपालदास नीरज Gopaldas Neeraj”