क्या यह वाक्य सही है??

देखने में तो बहुत ही अच्छा लग रहा है। और सब सही भी है। परंतु अंत में जाते ही ऊपर की पूरी बात का रुख ही बदल जाता है। जैसे ही कहा ‘मदद’ करते हैं और किचन ‘तक’ में। जब यह काम दोनों की साझी जिम्मेदारी है तो फिर मदद कहना तो उपहास है। मतलबContinue reading “क्या यह वाक्य सही है??”

Women, freedom and relationship

I’ll just translate the quote here and not add my opinions as I want to know about opinions of my reader friends coming from diverse backgrounds. It says that Indian men are still habitual of seeing women doing only the household tasks or just as housewives. They like to talk to intelligent women and beContinue reading “Women, freedom and relationship”